यह सहन नहीं करेंगे कि पड़ोसी इस्लामी देश आतंकी एजेंटों के प्रशिक्षण का ठिकाना बन जाए!

सैयद मुहम्मद हसन तुराबी फ़र्द ने तेहरान की नमाज़े जुमा के ख़ुतबों में कहा कि यह उचित नहीं है कि पाकिस्तान अपने पड़ोसियों के लिए समस्याएं पैदा करे, उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अपने इस क़दम की क़ीमत चुकानी पड़ेगी।

तेहरान की केन्द्रीय नमाज़े जुमा के इमाम ने कहा कि एक मुसलमान पड़ोसी की हैसियत से पाकिस्तान की सरकार से हम यह अपेक्षा करते हैं कि अपने अतीत के रवैए को सुधारे और भाईचारे के सिद्धांत के लिए रास्ता साफ़ करे।

ज्ञात रहे कि गत 13 फ़रवरी को ख़ाश ज़ाहेदान रोड पर पासदाराने इंक़ेलाब फ़ोर्स की थल सेना के जवानों की बस पर आत्मघाती आतंकी हमला हुआ जिसमें 27 सुरक्षाकर्मी शहीद और 13 घायल हो गए।

इस हमले की ज़िम्मेदारी आतंकी संगठन जैशुज़्ज़ुल्म ने स्वीकार की थी।

तेहरान की केन्द्रीय  नमाज़े जुमा के इमाम ने अपने ख़ुतबों में इस्लामी क्रान्ति के बारे में बात करते हुए कहा कि इस्लामी क्रान्ति अपने सिद्धांतों पर पिछले चालीस साल से कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि चार दशकों से ईरान इस्लामी और क्रान्तिकारी सिद्धांतों पर अडिग है और अपनी प्रगति की रफ़तार लगातार बढ़ाता जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *