इस्लामाबाद, नई दिल्ली की धमकियों से घबराने वाला नहीं है, क़ुरैशी. शांति को एक मौक़ा दिया जाए, ख़ान

भारतीय अर्धसैनिक बलों पर पुलवामा में आत्मघाती हमले को लेकर नई दिल्ली की पाकिस्तान के ख़िलाफ़ सैन्य कार्यवाही की धमकी पर पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी का कहना था कि इस्लामाबाद तनाव को कम करने के लिए उचित क़दम उठा रहा है, लेकिन भारत तनाव को बढ़ाने में रूचि रखता है।

क़ुरैशी ने कहा, भारत ने कश्मीर में और अधिक सैनिक तैनात कर दिए हैं, जिसके कारण कश्मीरी लोगों में भय व्याप्त है और उनका काम काज ठप होकर रह गया है।

इस बीच, पाकिस्तानी प्रधान मंत्री इमरान ख़ान ने अपने भारतीय समकक्ष नरनेद्र मोदी के हालिया बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि शांति को एक मौक़ा दिया जाना चाहिए।

राजस्थान में एक रैली को संबोधित करते हुए भारतीय प्रधान मंत्री मोदी ने कहा था कि पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने के बाद ख़ान को बधाई देते हुए मैंने उनसे कहा था, ‘आइए ग़रीबी और अशिक्षा के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ें। इस पर ख़ान ने कहा था कि मोदी जी मैं पठान का बच्चा हूं, सच्चा बोलता हूं, सच्चा करता हूं। आज उनके शब्दों को कसौटी पर तौलने का वक़्त है।’

इसी के साथ पाकिस्तान क धमकी देते हुए मोदी ने कहा कि इस बार हिसाब होगा और बराबर होगा। यह बदला हुआ भारत है, इस दर्द को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ख़ान ने रविवार को मोदी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘शांति को एक मौक़ा दिया जाना चाहिए और वह अपने शब्दों पर क़ायम हैं, अगर भारत पुलवामा हमले पर पाकिस्तान को ‘कार्यवाही योग्य खुफ़िया जानकारी’ उपलब्ध कराता है तो इस पर ‘तत्काल’ कार्रवाई की जाएगी।

14 फ़रवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ़ के क़ाफ़िले पर आत्मघाती हमले में क़रीब 44 जवानों की मौत हो गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *