केटीआर का तंज, कहा- केसीआर की योजनाओं का नकल कर रहे चंद्रबाबू

हैदराबाद : तेलंगाना राष्ट्र समिति के कार्यकारी अध्यक्ष के. तारक रामाराव (केटीआर) ने कहा कि टीडीपी प्रमुख व आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायडू और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव के बीच जमीन-आसमान का फर्क है। उन्होंने कहा कि चंद्रबाबू के भ्रष्ट सरकार से तंग आंध्र प्रदेश की जनता जल्द उनसे छुटकारा पाना चाहती है।

उन्होंने कहा कि चंद्रबाबू नायडू एक तरफ तेलंगाना के मुख्यमंत्री की आलोचन करते हुए दूसरी तरफ केसीआर की सभी कल्याण योजनाओं का नकल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अपने दम पर चुनाव लड़ने का दम नहीं होने से चंद्रबाबू को हर चुनाव में लाठी की जरूरत होती है। उन्होंने कहा कि चुनाव से ठीक पहले किसानों को लेकर चंद्रबाबू में अचानक प्यार जागा है।

केसीआर के रैतु बंधू जैसी योजनाओं से लोगों का दिल जीतने का पता लगने पर चंद्रबाबू नायडू, राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी भी उसी नक्शे कदम पर चलने लगे हैं। मोदी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजन के नाम से रैतु बंधु का नकल किया है।

उन्होंने कहा कि हर दिन हमारी आलोचना करने वाले चंद्रबाबू नायडू भी रैतु बंधु का नकल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में रैतु बंधु योजना शुरू कर दो साल बीत गए हैं, लेकिन चंद्रबाबू ने चुनाव करीब आते देख अन्नदाता सुखीभवा के नाम से योजना शुरू की है। यही नहीं, हमारी कल्याण लक्ष्मी योजना के नकल में चंद्रबाबू ने आंध्र में पसुपु-कुंकुम योजना शुरू की है।

उन्होंने कहा कि षड़यंत्रों की राजनीति टीआरएस से संभव नहीं है और यह काम केवल चंद्रबाबू नायडू ही कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर राव का शासन कैसा रहा, इसका जवाब हाल के तेलंगाना विधानसभा चुनाव परिणाम बताते हैं।

इसलिए चंद्रबाबू और केसीआर के बीच काफी अंतर है। उन्होंने कहा कि केसीआर अपने दम पर पार्टी स्थापित कर दो बार धमाकेदार जीत के साथ मुख्यमंत्री बने हैं, लेकिन चंद्रबाबू नायडू ने अपने ससूर की पीठ में छुरा घोंपकर उनसे पार्टी छीनी है। यही नहीं, चंद्रबाबू हर बार चुनाव में दूसरे के सहारे चुनाव लड़ते हैं और वह कभी अकेले चुनाव नहीं लड़ सकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *