भारत-पाक तनाव के बीच, दोनों देशों के मीडिया आमने सामने, भारत ने दिए एफ़-16 के सबूत

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार भारतीय सेना के तीनों अंगों की तरफ से रक्षा मंत्रालय के सामने रायसिना हिल्स में यह असामान्य प्रेस ब्रीफिंग की गई जिसमें सेना, नौसेना और वायुसेना के तीन सीनियर ऑफिसर मौजूद थे।

भारत की ओर से गुरूवार की शाम को तीनों सेनाओं की संयुक्त प्रेस कांफ़्रेंस में AMRAAM मिज़ाइल का वो हिस्सा सबूत के तौर पर दिखाया जिसे एफ़-16 से जम्मू कश्मीर के राजौरी में सेना के ठिकाने पर फ़ायर किया गया था।

इस्लामाबाद की तरफ से यह दावा किया गया था कि भारतीय वायुसीमा क्षेत्र एफ-16 का इस्तेमाल नहीं किया गया। इस बयान में कहा गया कि देश की सुरक्षा के लिए भारतीय सेना किसी भी चुनौती से निपटने को तैयार है।

दूसरी ओर पाकिस्तानी मीडिया ने दावा किया है कि भारत की सशस्त्र सेना के वरिष्ठ अधिकारी प्रेस कांफ़्रेंस में पत्रकारों की ओर से किए गये कई सवालों का जवाब नहीं दे सके।

पाक मीडिया का कहना है कि भारतीय वायु सेना के प्रवक्ता एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने दावा किया कि उन्होंने पाकिस्तान का एफ़-16 विमान मार गिराया किन्तु पत्रकारों ने सबूत मांगे तो वह बात टाल गये। पत्रकारों ने पूछा कि बालाकोट में कितने लोग मारे गये? इसका भी सैन्य प्रवक्ताओं के पास कोई ठोस जवाब न था। उन्होंने कहा कि कार्यवाही तो सफल थी किन्तु यह नहीं बता सकते कि बालाकोट में कितने लोग मारे गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *