अल्लाह के 99 नामों में से किसी भी नाम का अर्थ हिंसा नहीं हैः भारतीय विदेश मंत्री का बल

सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को संयुक्त अरब इमारात के अबू धाबी नगर में मुस्लिम देशों के संगठन इस्लामी सहयोग संगठन या ओआईसी के विदेशमंत्रियों की बैठक में आतंकवाद का मुद्दा उठाया। भारतीय विदेश मंत्री को इस बैठक में मेहमान के रूप में आमंत्रित किय गया था। उन्होंने बल देकर कहा कि दुनिया आज आतंकवाद की समस्या में ग्रस्त है और आतंकी संगठनों को दी जाने वाली वित्तीय सहायता पर रोक लगनी चाहिए। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बग़ैर कहा कि भारत विदेश प्रायोजित आतंकवाद से लम्बे समय से जूझ रहा है।

सुषमा स्वराज ने कहा कि आतंकवाद का दायरा बढ़ता रहा है और आज आतंकवाद व चरमपंथ एक नए स्तर पर है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद को संरक्षण और पनाह देने पर रोक लगनी चाहिए। भारतीय विदेश मंत्री ने आतंकी संगठनों की फ़ंडिंग रोके जाने पर बल दिया। सुषमा स्वराज ने धर्म को शांति का पर्याय बताते हुए कहा कि जिस तरह इस्लाम का अर्थ शांति है और अल्लाह के 99 नामों में से किसी भी नाम का अर्थ हिंसा नहीं है, उसी तरह हर धर्म शांति के लिए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *