क्या ट्रम्प को आभास हो चला है कि वाइट हाउस से विदाई का समय आ पहुंचा है?!

शनिवार को ट्रम्प ने जो 90 मिनट का भाषण दिया उसमें उन्होंने इस दबाव की बात स्वीकार की और कहा कि उनके विरोधी उन्हें वाइट हाउस से निकाल देना चाहते हैं और इसके लिए बेबुनियाद आरोपों का सहारा ले रहे हैं। ट्रम्प ने इन आरोपों को निर्थरक बताया।

ट्रम्प ने अपने ऊपर पड़ने वाले दबाव पर पर्दा डालने और अपनी कुछ सफलताएं जताने के लिए दक्षिण पूर्वी एशिया का दौरा किया और यह एलान कर दिया कि दाइश को एक दो दिन में हम पूरी तरह पराजित कर देंगे। भारी दबाव और समस्याओं से फ़रार होने की ट्रम्प की रणनीति हमें नहीं लगता कि ट्रम्प को कोई फ़ायदा पहुंचाएगी या संकट से निकाल पाएगी।

हनोई में उत्तरी कोरिया के शासक किम जोंग ऊन से ट्रम्प की शिखर बैठक पूरी तरह नाकाम रही क्योंकि किम जोंग ऊन ने अपने देश की संप्रभुता और परमाणु हथियारों की रक्षा का दायित्व पूरा किया उन्होंने साफ़ साफ़ कह दिया कि परमाणु हथियारों को नष्ट करने की प्रक्रिया की शुरुआत उत्तरी कोरिया पर अमरीका की ओर से लगाए गए सारे प्रतिबंध समाप्त हो जाने के बाद होगी।

जहां तक दाइश को पराजित करने का ट्रम्प का दावा है तो अब इसमें किसी को दिलचस्पी नहीं रही है और अमरीकी जनता भी इसे गंभीरता से नहीं लेती।

ट्रम्प जिस चीज़ से बहुत भाग रहे हैं वह विशेष जांचकर्ता राबर्ट मुलेर की वह जांच रिपोर्ट है जिसे वह अमरीकी न्यायमंत्री को कुछ ही दिनों के भीतर पेश करने वाले हैं। यह जांच वर्ष 2016 के अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव के परिणामों को प्रभावित करने के उद्देश्य से रूस से की गई संभावित सांठगांठ के बारे में है। इसके अलावा चुनावी कैंपेन के दौरान तथा सत्ता संभालने के बाद शुरुआती महीनों में ट्रम्प ने संभावित रूप से क़ानून का जो हनन किया है उसके बारे में भी मूलेर ने जांच की है।

जब ट्रम्प के निजी वकील माइकल कोहेन जिन्हें ब्लैक बाक्स कहा जाता है और जिनके पास ट्रम्प के बहुत सारे राज़ हैं, अमरीकी एटार्नी जनरल से सहयोग कर रहे हैं और उन्होंने कांग्रेस के सामने अपने बयान में ट्रम्प के बारे में कहा कि वह धोखेबाज़, मक्कार, नस्लवादी व्यक्ति हैं और ट्रम्प ने उनके माध्यम से पोर्न स्टार को चुप करवाने के लिए एक लाख 35 हज़ार डालर की रक़म दिलवाई थी क्योंकि पोर्न स्टार ने धमकी दे दी थी कि वह मीडिया में जाकर ट्रम्प को बेनक़ाब कर देगी और ट्रम्प से अपने यौन संबंधों के बारे में सब कुछ बता देगी। कोहेन की गवाही का मतलब यह है कि ट्रम्प वाक़ई गंभीर समस्या में फंस गए हैं।

अब तो यह हालत है कि ट्रम्प के क़रीबी घटक इस्राईली प्रधानमंत्री नेतनयाहू भी भ्रष्टाचार के आरोपों में फंस गए हैं। इस्राईली एटार्नी जनरल ने उन पर रिश्वत लेने, धोखा देने, विश्वासघात करने जैसे आरोप लगाए हैं।

वर्ष 2019 शायद भ्रष्टाचारियों और युद्धोन्मादियों को बर्खास्त किए जाने का साल साबित होगा और इस सूची में सबसे ऊपर दो नाम होंगे ट्रम्प और नेतनयाहू।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *