वरिष्ठ सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या पर अबतक का सबसे बड़ा ख़ुलासा

अलजज़ीरा टीवी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक़, सऊदी अरब के वरिष्ठ पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी की शव को तीन दिनों तक एक बड़े से ओवन में जलाया गया है। अलजज़ीरा ने अपने ख़ुलासे में कहा है कि ख़ाशुक़जी के शव को इतना जलाया गया कि उनका मृत शरीर राख के ढेर में बदल गया और उसके बाद उस राख को ठिकाने लगा दिया गया।

अलजज़ीरा के अनुसार तुर्की में स्थित सऊदी अरब के दूतावास में घटी इस ख़ौफ़नाक घटना के संबंध में जब चैनल ने दूतावास के किचन में काम करने वाले एक कर्मचारी से बात की तो उसने इस हाई प्रोफ़ाइल हत्या के बारे में रहस्योद्घाटन करते हुए बताया कि, किचन में जो बड़ा ओवन है इसमें हज़ार डिग्री सेल्सियस तक तापमान हो सकता है जो किसी भी धातु को पिघलाने के लिए पर्याप्त है।

अलजज़ीरा से बात करते हुए जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या की जांच कर रहे एक वरिष्ठ तुर्क अधिकारी ने बताया कि, सऊदी दूतावास से जमाल ख़ाशुकजी के शरीर के कुछ कण भी मिले हैं जिससे पता चलता है कि ख़ाशुक़जी के शव को पूरी तरह राख होने में कम से कम तीन दिन लगे होंगे।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले जमाल ख़ाशुक़जी हत्या मामले में यह कहा जा रहा था कि उनके शव को किसी ख़तरनाक केमिकल और तेज़ाब में पिघला कर नष्ट किया गया था। इन सभी दावों के बावजूद अभी तक ख़ाशुक़जी की हत्या या उनके शव के बारे में कोई सही जानकारी सामने नहीं आई है।

ज्ञात रहे कि ख़ाशुक़जी को गत 2 अकतूबर वर्ष 2018 को तुर्की के इस्तांबूल में स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास के भीतर सऊदी अधिकारियों ने बड़ी बेरहमी से ख़ाशुक़जी की हत्या करके आरी से उनके शव के टुकड़े टुकड़े कर दिए थे। तुर्क सरकार ने ख़ाशुक़जी हत्याकांड की जांच में बताया था कि सऊदी पत्रकार की हत्या का आदेश सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान ने दिया था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *