मोदी राज में सब कुछ ग़ायब, रोज़गार, 15 लाख का वादा और राफ़ेल की फ़ाइल

भारत में सरकार की ओर से उच्चतम न्यायालय में यह स्वीकार किए जाने के बाद कि राफ़ेल सौदे के काग़ज़ात ग़ायब हो गए हैं, उसकी चौतरफ़ा आलोचना हो रही है। इस मामले में पत्रकारों से बात करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है और कहा है कि सरकार ने एक नई लाइन निकाली है कि ग़ायब हो गया है। रोज़गार गायब हो गया है, 15 लाख का वादा ग़ायब हो गया है, डोकलाम ग़ायब हो गया, जीएसटी से फ़ायदा ग़ायब हो गया और अब राफ़ेल की फ़ाइल ग़ायब हो गई है। उन्होंने मोदी पर हमला करते हुए कहा कि चौकीदार को बचाने की कोशिश जारी है, राफ़ेल के काग़ज़ ग़ायब हुए हैं, मतलब वो सच्चे हैं। राहुल गांधी ने कहा कि राफ़ेल डील की मोदी जी ने बाईपास सर्जरी की है। राहुल गांधी ने कहा कि नरेंद्र मोदी की डील की वजह से भारत में राफ़ेल विमान लाने में देरी हुई है जिसका प्रमाण हम देंगे।

विपक्षी दल कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने पत्रकार सम्मेलन में कहा कि फ़ाइल में लिखा है कि पीएमओ डील में हस्तक्षेप कर रहा था। उन्होंने कहा कि रक्षामंत्री पर्रिकर के पास फ़ाइल होने की जांच की जानी चाहिए और सिर्फ़ प्रधानमंत्री मोदी ही नहीं सभी की जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय की फ़ाइल में लिखा हुआ है कि प्रधानमंत्री ही डील कर रहे हैं और इसका मतलब साफ़ है कि उनके ख़िलाफ़ कार्यवाही होनी चाहिए। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को चुनौती देते हुए कहा कि वे स्वयं इस मामले की जांच क्यों नहीं करा देते? राहुल गांधी ने पीएम से पूछा कि अगर उन्होंने कुछ नहीं किया है तो वो जेपीसी जांच से क्यों कतरा रहे हैं? ज्ञात रहे कि बुधवार को राफ़ेल मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान मोदी सरकार ने माना कि रक्षा मंत्रालय से उसके कुछ काग़ज़ात चोरी हो गए थे जो कि अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में छापे में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *