मसऊद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित नहीं किया जा सका, चीन ने प्रस्ताव को वीटो कर दिया

आतंकी संगठन जैशे मुहम्मद के सरग़ना मसऊद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव फ़्रांस, ब्रिटेन और अमरीका की ओर से 27 फ़रवरी को रखा गया था। मसऊद अज़हर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के प्रस्ताव को चौथी बार भी चीन ने वीटो कर दिया जिसके चलते यह प्रस्ताव रद्द हो गया है। चीन का कहना है कि आतंकी संगठन जैशे मुहम्मद और मसऊद अज़हर का आपस में कोई संबंध नहीं है। चीन ने कहा है कि पहले भी मसऊद अज़हर के ख़िलाफ़ कोई प्रमाण नहीं मिला था। भारतीय मीडिया का कहना है कि संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद को सौंपे गए दस्तावेज़ में भारत ने मसऊद अज़हर के ख़िलाफ़ प्रमाण दिए हैं।

नई दिल्ली में भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस प्रस्ताव के वीटो हो जाने पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा है कि हमें निराश हुई है लेकिन हम सभी उपलब्ध विकल्पों पर काम करते रहेंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि भारतीय नागरिकों पर हुए हमलों में शामिल आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में खड़ा किया जाए। भारत ने प्रस्ताव लाने और उसका समर्थन करने वाले देशों का आभार प्रकट किया है। दूसरी ओर विपक्षी दल कांग्रेस ने इसे मोदी सरकार की कूटनीतिक विफलता क़रार दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *