दक्षिणी सूडान में शांति की स्थापना के लिए पोप फ़्रांसिस ने चूमे नेताओं के पैर

पोप फ़्रांसिस ने दक्षिणी सूडान के राष्ट्रपति के साथ भेंट में इस देश में युद्ध समाप्त करने मांग की है। उन्होंने गुरूवार की शाम साल्वाकीर के साथ भेंट में कहा कि दक्षिणी सूडान में शांति की स्थापना संभव है। पोप फ़्रांसिस ने कहा कि निशस्त्रीकरण का सम्मान किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं कामना करता हूं कि शत्रुता समाप्त की जाए, युद्धविराम का सम्मान किया जाए, जातीय विभाजन समाप्त किया जाए और उन सभी नागरिकों के सामान्य हितों का ध्यान रखा जाए जो राष्ट्र निर्माण को आरंभ करने का सपना देख रहे हैं।

पोप फ़्रांसिस ने दक्षिणी सूडान में शांति प्रक्रिया को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अभूतपूर्व मिसाल देते हुए इस देश के प्रतिद्वदवी नेताओं के पैर चूमे। उन्होंने घुटने के बल बैठकर प्रतिद्वदवी राजनेताओं के पैर चूमे।

ज्ञात रहे कि दक्षिणी सूडान दिसंबर 2013 से सशस्त्र झड़पों का केन्द्र बना हुआ है जहां पर राष्ट्रपति साल्वाकीर और छापामारों के नेता रीक माचार के बीच झड़पों का क्रम जारी है। 12 सितंबर 2018 को इथोपिया की राजधानी अदीसअबाबा में दक्षिणी सूडान के राष्ट्रपति साल्वाकीर और छापामारों के नेता रीक माचार ने एक शांति समझौते पर हस्ताक्षर किये थे लेकिन शांति समझौते पर हस्ताक्षर के दो दिनों के बाद ही दोनो पक्षों के बीच फिर झड़पें आरंभ हो गईं। दक्षिणी सूडान में जारी हिंसा में जहां हज़ारों लोग मारे गए वहीं पर चालिस लाख लोग पलायन करने पर विवश हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *