मार्टर गोले के धमाके में 7 बच्चों की मौत 10 घायल

एएफ़पी के अनुसार लग़मार के गवर्नर असदुल्ला ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि जांच की जा रही है कि बच्चों के हाथ मार्टर गोला कैसे लगा। उन्होंने बताया कि हताहत घायल होने वाले बच्चों की उम्र 15 साल से कम है।

प्रांतीय अस्पताल के प्रमुख अब्दुल मारूफ़ जीलानी ने बताया कि अस्पताल में 7 बच्चों के शव और 10 घायल बच्चों को लाया गया है।

इससे पहले गत 22 दिसम्बर को अफ़ग़ानिस्तान के उत्तरी फ़्रांत फ़रयाब में एक बम धमाके की चपेट में आकर लगभग 8 बच्चे हताहत और 6 घायल हुए थे। 5 से 12 साल की उम्र के बच्चे खेल रहे थे कि अचानक बम फटा।

अफ़ग़ान अधिकारियों का कहना है कि तालेबान प्रांत के विभिन्न हिस्सों में सुरक्षा बलों को निशाना बनाने के लिए रोड पर बम लगा देते हैं और बच्चे उसे खिलौना समझ कर उठा लेते हैं जिसके कारण इस प्रकार की घटनाएं हो रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *