बहरैन, 138 लोगों की नागरिकता फिर रद्द

बहरैन के प्रासिक्यूटर जनरल अहमद अलहमदी ने दावा किया कि 138 लोगों पर आरोप था कि वह लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध संगठन हिज़्बुल्लाह के साथ संबंध में थे और बहरैन में भी इस प्रकार के एक संगठन का प्रयास कर रहे थे।

बहरैन की तथाकथित अदालत ने हिज़्बुल्लाह के साथ संबंध के आरोप में अन्य 138 लोगों की नागरिकता रद्द करके क़ैद की सज़ा सुना दी है।

बहरैन के एटार्नी जनरल अहमद अलहमदी ने बताया कि 69 नागरिकों को उम्र क़ैद, 39 को 10 वर्ष, 23 को 7 साल जबकि अन्य को 3 और 5 साल क़ैद की सज़ाएं सुनाई गयीं।

उन्होंनेक हा कि 96 नागरिकों को 2 लाख 65 हज़ार डॉलर जुर्माने की सज़ा भी सुनाई।

बहरैन के विपक्षी दलों ने तथाकथित अदालत के फ़ैसले के विरुद्ध प्रदर्शन किया जबकि मानवाधिकार संगठनों एमेनेस्टी ने अदालती फ़ैसले को इंसाफ़ के साथ मज़ाक़ क़रार दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *