देश में पहली बार नाबालिग को आजीवन कारावास, यह है मामला

हैदराबाद : नामपल्ली कोर्ट ने दस साल के बालक के साथ अप्राकृतिक रूप से बलात्कार करने के बाद उसकी हत्या किये जाने के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। देश में पहली बार किसी नाबालिग आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।

आपको बता दें कि पुराने शहर के बारकस में साल 2017 के दौरान 10 साल के बालक के साथ अप्राकृतिक रूप से बलात्कार करने के बाद दस्तगिरी ने उसकी हत्या कर दी थी। तब हैदराबाद शहर में यह मामला काफी सुर्खियों में रहा।

नगर पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने मीडिया को बताया कि गत 28 जून 2017 को आरोपी दस्तगिरी उस समय 17 साल का था। उसने 10 वर्षीय स्कूल के छात्र का अपहरण करने के बाद एक पुराने मकान में ले जाकर उसके साथ बलात्कार किया। इसके बाद गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। मामले को लेकर पुराने शहर की चंद्रायनगुट्टा पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 364, 377, 302, और201 के तहत मामले दर्ज किए थे।

आरोपी के खिलाफ अदालत में पुलिस द्वारा दायर आरोपपत्र पर और सरकारी अधिवक्ता की दलील के आधार पर नामपल्ली कोर्ट ने आरोपी को अभियुक्त करार देते हुए आईपीसी की धारा 364 के तहत 10 साल, आईपीसी की धारा 377 के तहत 10 साल, आईपीसी की धारा 302 के तहत आजीवन कारावास और आईपीसी की धारा 201 के तहत 7 साल की सजा सुनाई। उन्होंने यह भी बताया कि देश में पहली बार किसी नाबालिग आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *