फ्रांस में भारतीयों से रूबरू होते हुए PM मोदी ने 370 पर दिया बड़ा बयान

पेरिस : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव का प्रचंड जनादेश सिर्फ एक सरकार को नहीं, बल्कि एक ऐसे ‘न्यू इंडिया’ के निर्माण के लिए है, जो कारोबार की सुगमता के साथ बेहतर जीवनयापन पर केन्द्रित हो। प्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांस में 1950 और 1960 के दशक में एयर इंडिया के दो विमान हादसों में मारे गये लोगों के सम्मान में एक स्मारक का उद्घाटन करने के बाद यहां यूनेस्को मुख्यालय में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए यह बात कही।

उन्होंने कहा कि ‘न्यू इंडिया’ में भ्रष्टाचार, परिवारवाद, जनता के पैसे की लूट, आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बारे में स्पष्ट संकेत करते हुए उन्होंने कहा, ‘भारत में अस्थायी चीजों के लिए कोई जगह नहीं है। आपने देखा होगा कि 1.25 अरब लोगों के देश, महात्मा गांधी, गौतम बुद्ध, राम, कृष्ण की भूमि में, उसे हटाने में 70 साल लग गए, जो अस्थायी था।”

तीन देशों के अपने दौरे के पहले चरण में फ्रांस पहुंचे मोदी ने कहा कि लोगों ने ‘न्यू इंडिया’ के निर्माण के लिए भाजपा सरकार को प्रचंड जनादेश दिया है। उन्होंने कहा कि भारत विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। तीन तलाक पर उन्होंने कहा, ‘हमने तीन तलाक की प्रथा को खत्म किया, नए भारत में मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय नहीं किया जा सकता।” उन्होंने कहा कि भारत जलवायु परिवर्तन के 2030 तक के ज्यादातर लक्ष्यों को अगले डेढ़ साल में ही हासिल कर लेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत 2025 में क्षय रोग (टीबी) से मुक्त हो जाएगा।

प्रधानमंत्री पेरिस से अमीरात रवाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस की अपनी सफल यात्रा के बाद शुक्रवार को यहां से अबूधाबी के लिए रवाना हो गए। इस यात्रा के दौरान उन्होंने फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों और अपने समकक्ष एडवर्ड फिलिप के साथ द्विपक्षीय बैठकें कीं। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की राजधानी अबूधाबी की मोदी की यात्रा उनके तीन देशों के दौरे का हिस्सा है।

दो अन्य देशों में फ्रांस और बहरीन शामिल हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘‘भारत-फ्रांस द्विपक्षीय संबंध और मजबूत हो रहे हैं। अपनी तीन देशों की यात्रा के पहले चरण के सफल समापन के बाद प्रधानमंत्री मोदी अबूधाबी के लिए रवाना हुए।” संयुक्त अरब अमीरात की अपनी यात्रा के दौरान मोदी अबूधाबी के क्राउन प्रिंस, शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के साथ पारस्परिक हितों के द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मामलों पर चर्चा करेंगे।

वह विदेशों में कैशलेस लेनदेन के नेटवर्क का विस्तार करने के लिए औपचारिक रूप से रूपे कार्ड भी जारी करेंगे। इस यात्रा के दौरान वह यूएई सरकार द्वारा दिए जाने वाला सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ जायद’ भी प्राप्त करेंगे। मोदी अबूधाबी के बाद बहरीन का दौरा करेंगे जहां वह सुल्तान शेख हमाद बिन ईसा अल खलीफा के साथ बातचीत करेंगे। वह खाड़ी क्षेत्र के सबसे पुराने मंदिर श्रीनाथजी मंदिर के पुनर्विकास की औपचारिक शुरुआत के समय उपस्थित रहेंगे।

इसके बाद वह जी-7 की बैठक में शामिल होने के लिए रविवार को वापस फ्रांस जाएंगे। मोदी का बहरीन दौरा महत्वपूर्ण है क्योंकि किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यहां की यह पहली यात्रा होगी। वह यात्रा के दौरान भारतीय प्रवासियों के साथ भी बातचीत करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *