तलसानी ने मांग की कि जो लोग इस बात को नहीं मानते हैं, वो पुलिस पदोन्नति को लेकर श्वेतपत्र जारी करें? उन्होंने कहा कि बीसी की संपदा को चंद्रबाबू नायुडू ने सर्वनाश किया है। साथ ही करोड़ों रुपये आईटी के रूप में हेरीटेज में भुगतान कर रहे हैं। जो भी इसका विरोध कर रहे है कि उनके खिलाफ फर्जी मामले दर्ज कर रहे हैं।

तलसानी ने कहा कि चंद्रबाबू की सरकार ने आंध्र प्रदेश में घाटे का बजट को पेश किया है। दूसरी ओर करोड़ों रुपये विज्ञापन पर खर्च किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों को इसका वैकल्पिक रास्ता मालूम है। आने वाले चुनाव में बीसी समूदाय के लोग वोट के जरिए अपना फैसला देने को तैयार है।

उन्होंने बताया कि एपी में बीसी समूदाय के साथ बहुत अन्याय किया जा रहा है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आगामी 3 मार्च को गुंटूर में यादव-बीसी गर्जना जागरुकता सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। उन्होंने आश्वासन दिया कि एपी में अधिकार के लिए जो बीसी नेता संघर्ष करेंगे उन नेताओं को आवश्यक सहयोग और समर्थन दिया जाएगा।